कर्नाटक के पराठे के बाद अब पॉपकॉर्न पर चर्चा तेज हो गई है। गुजरात में  पॉपकॉर्न पर फरमान आने के बाद ये सोशल पर छाया हुआ है।

आए दिन सोशल मीडिया पर अलग-अलग मुद्दों पर चर्चा चलती रहती है। कभी किसी सिनेमाजगत से जुड़ी चीजों पर कभी पेट्रोल डीजल तो कभी महंगाई को लेकर। इस बीच गुजरात में पॉपकॉर्न पर 18 फीसदी जीएसटी का फरमान सामने आया है जिसे लेकर अब सोशल मीडिया पर चर्चा का दौर तेज हो गया है।

दरअसल, गुजरात में टैक्स मामलों के अथॉरिटी ऑफ एडवांस रूलिंग (AAR) ने यह साफ किया है कि पैक्ड रेडी टू ईट पॉपकॉर्न पर 18 फीसदी का वस्तु एवं सेवा कर GST लगेगा। अपने आदेश में AAR ने कहा है, “जो हम्बल पैक्ड पॉपकॉर्न होता है वह स्टैंडर्ड अनाज के तहत नहीं आता। उसमें तेल पड़ा होता है और वह एक तरह से पका होता है। यह उस पॉपकॉर्न की तरह नहीं होता जिसे माइक्रोवेव में भूनकर खाया जाता है। इसलिए इस पर 18 फीसदी जीएसटी लगेगा।”

पराठे पर 18 फीसदी जीएसटी लगा

गुजरात से पहले कर्नाटक में भी कुछ ऐसा ही मामला सामने आया था जिसमें एक अथॉरिटी ने आदेश दिया था कि रोटी पर तो 5% जीएसटी लगेगा, लेकिन मालाबार पराठे पर 18% GST लगेगा। इस आदेश के सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने खूब मजे लिए थे।

गौरतलब है कि मोदी सरकार की ओर से वन नेशन, वन टैक्स की अवधारणा के तहत जीएसटी को लागू किया था, लेकिन कई नियमों पर मतभेद या भ्रम की स्थिति बनी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here