Visakhapatnam Gas Leak

विशाखापट्टनम में आज सुबह हुए जहरीली गैस मामले में अब तक 3 हजार लोगों को रेस्क्यू कर लिया गया है साथ ही 7 लोगों की मौत की भी खबर है।

आंध्र प्रदेश से विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीक के मामले से पूर्व शहर में तनाव का माहौल है। अभी भी हालत नियंत्रण में नहीं है। स्थानीय प्रशासन और नेवी ने नहीं फैक्ट्री के आसपास के गांवों को सुरक्षा के मद्देनजर खाली करवा लिया है।

बुद्ध पूर्णिमा पर जनता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संदेश

मिली जानकारी के मुताबिक, आरआर वेंकटपुरम में स्थित विशाखा एलजी पॉलिमर कंपनी से खतरनाक जहरीली गैस का रिसाव हुआ। जिससे फेक्ट्री के तीन किलोमीटर के इलाका प्रभावित हुआ हैं। फिलहाल, सुरक्षा के मद्देनजर पांच गांवों को खाली करा लिया गया है। सैकड़ों लोग को सिर दर्द, उल्टी और सांस लेने में तकलीफ बाद अस्पताल पहुंचाया गया है।

  • 10 बजे तक रिसाव पर किया नियंत्रण

घंटों की मेहनत के बाद रिसाव पर नियंत्रण कर लिया गया है। इसके अलावा फैक्ट्री के आस-पास से 3 हजार लोगों का रेस्क्यू किया गया है। अभी करीब 170 लोगों को हॉस्पिटल में भर्ती हैं। सीएम जगन मोहन रेड्डी भी घटना स्थल (विशाखापट्टनम) के लिए रवाना हो गए हैं।

  • 7 की मौत, 20 की हालत गंभीर

बता दें, सरकारी अस्पताल में 7 लोगों की मौत की खबर है जबकि 20 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इनमें ज्यादातर बुजुर्ग और बच्चे शामिल हैं। कहा जा रहा है सरकारी अस्पताल में 150 से 170 लोग एडमिट कराए गए हैं इसके साथ ही कई लोगों को गोपालपुरम के प्राइवेट अस्पताल में भी एडमिट कराया गया है। वहीं जरूरत को देखते हुए 1500-2000 बेड की व्यवस्था कर ली गई है।

  • पीवीसी या स्टेरेने गैस का रिसाव

विशाखापट्टनम नगर निगम के कमिश्नर श्रीजना गुम्मल्ला की माने तो शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक पीवीसी या स्टेरेने गैस का रिसाव हुआ है। गैस के रिसाव का प्रारंभ सुबह 2:30 बजे करीब हुआ। इस गैस रिसाव की चपेट में आने के बाद लोगों को चक्कर, सांस लेने में दिक्कत और बेहोशी छा गई। हालांकि अभी तक घटना के असली कारण का पता नहीं चल पाया है। मौके पर विशाखापट्टनम के जिलाधिकारी विनय चंद पहुंचे हैं और हालात का जायजा ले रहे हैं। उनकी मानें तो 2 घंटे के अंदर हालात पर नियंत्रण पा लिया गया। कई लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट दिया जा रहा है।

  • लोगों से की जा रही है सुरक्षित जगह पर जाने की अपील

घटनास्थल पर एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें भी लगाई गई हैं और गांवों से लोगों को बाहर निकाला जा रहा है। पुलिस अधिकारी द्वारा लोगों से घरों से बाहर आने की अपील की जा रही है और सुरक्षित जगह जाने को कहा जा रहा है इसके साथ ही लोगों से प्रभावित इलाकों में ना जाने की भी अपील की जा रही है।

आपको बता दें कि 1961 में एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री की स्थापना हिंदुस्तान पॉलिमर्स के नाम से की गई थी। कंपनी में पॉलिस्टाइरेने और इसके को-पॉलिमर्स का निर्माण किया जाता है। यूबी ग्रुप के मैकडॉवल एंड कंपनी लिमिटेड में 1978 में हिंदुस्तान पॉलिमर्स को शामिल कर लिया गया और फिर यह एलजी पॉलिमर्स इंडस्ट्री हो गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here