America Vs WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ WHO को अमेरिका ने बड़ा झटका दिया है। एक और जहां पहले अमेरिका ने संगठन की फंडिंग को रोक दिया था तो वहीं अब उसने संस्थान से अलग होने का फैसला लिया है।

कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा त्रस्त और विश्व स्वास्थ्य संगठन पर लापरवाही का आरोप लगाने वाले अमेरिका ने अब WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) से हटने का ऐलान कर दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है डब्ल्यूएचओ पूरी तरह से चीन के नियंत्रण में हैं। डब्ल्यूएचओ को जो बदलाव की प्रक्रिया शुरू करनी थी उसमें वह नाकाम रहा है और अमेरिकी अब स्वास्थ्य संगठन से अपना रिश्ता खत्म करेगा।

कश्मीर के बाद अब चीन मुद्दे पर दखल दे रहा अमेरिका, कहा- अमेरिका मध्यस्थता को तैयार

ट्रंप ने कहा विश्व स्वास्थ्य संगठन को चीन हर साल में 40 मिलियन डॉलर देने के बावजूद अपने नियंत्रण में रखता है जबकि अमेरिका से उसे 1 साल के अंदर करीब 450 मिलियन डॉलर का अनुदान दिया जाता है। जो सुधार की सिफारिश डब्ल्यूएचओ से की गई थी, उसे लागू नहीं किया गया। ऐसे में अब अमेरिका तोड़ रहा है।

  • अमेरिका के निशाने पर बना हुआ है WHO

पिछले काफी समय से डब्ल्यूएचओ अमेरिका के निशाने पर बना हुआ है। अमेरिका ने बीते दिनों डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली सहायता राशि पर रोक लगाने का फैसला लिया था। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ पर कोरोना वायरस को पहचानने में असफल होने का आरोप लगाया था और चीन के साथ देने की भी बात कही थी।

इस खूबसूरत देश में घूमने पर Tourist को मिलेंगे रुपये

  • WHO को लिखी थी चिट्ठी

WHO (डब्ल्यूएचओ) के डायरेक्टर को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एक चिट्ठी लिखी थी जिसमें उन्होंने 30 दिन के अंदर संगठन में बड़े बदलाव करने को कहा था वरना अमेरिका अपनी राशि पर हमेशा के लिए पाबंद लगा देगा और संगठन से अलग होने पर विचार भी कर सकता है।

कोरोना वायरस का ये है नया लक्षण, WHO ने दी चेतावनी

बता दें, अमेरिका लगातार डब्ल्यूएचओ पर ये आरोप लगा रहा है कि उसने कोरोना वायरस मामले में लापरवाही बरती और चीन का साथ दिया। यही वजह है कि दुनिया को अब इस वायरस से जूझना पड़ रहा है।

  • अब तक 58 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने तबाही मचा रखी है और 188 देशों में यह वायरस अपने पैर पसार चुका है। इस महामारी ने अब तक 5,878,701 लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है जिसमें से 362,769 लोगों की मौत हो चुकी है। इसमें सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में अमेरिका है, जहां पर 1,735,971 संक्रमित लोगों में से 102,323 की मौत हो चुकी है। एक लाख से ज्यादा मौतो के बाद भी अमेरिका में मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा।

  • WHO ने बनाया नया फाउंडेशन

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने और स्थिति को संभालने में विफल होने का आरोपों का सामना कर रहे डब्ल्यूएचओ ने एक फाउंडेशन का ऐलान किया है। इस फाउंडेशन के तहत किसी महामारी से निपटने के लिए फंडिंग को इकट्ठा किया जाएगा। इसमें ना से बड़े देश बल्कि आम लोग भी मदद कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here