Migrant Worker

उत्तर प्रदेश में पैदल, दुपहिया वाहन और ट्रक में सवार होकर आ रहे प्रवासी मजदूरों को लेकर प्रदेश के सीएम योगी ने बड़ा फैसला लिया है।

अब उत्तर प्रदेश की सीमा को प्रवासी मजदूर पैदल, ट्रक, बाइक या फिर अवैध वाहनों से पार नहीं कर पाएंगे। दरअसल, प्रदेश की योगी सरकार ने पैदल यात्रा कर सीमा में आ रहे मजदूरों को लेकर बड़ा फैसला लिया है।मजदूरों के पलायन को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को साफ निर्देश दे दिया है कि किसी भी प्रवासी को पैदल, ट्रक या फिर असुरक्षित तरीके से यात्रा ना करने दिया जाए।

औरेया में दर्दनाक हादसा, प्रवासी मजदूरों से भरी DCM को ट्रक ने मारी टक्कर,…

शुक्रवार को प्रदेश के अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने कहा, “सीएम योगी आदित्यनाथ ने औरैया सड़क हादसे पर अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए सभी वरिष्ठ अधिकारियों को ये निर्देश दिया है कि किसी भी प्रवासी नागरिक को पैदल, अवैध या असुरक्षित वाहनों से यात्रा न करने दिया जाए”।

उन्होंने बताया कि हर बॉर्डर पर प्रवासियों के लिए 200 बसों की बॉर्डर में व्यवस्था की गई हैं। प्रदेश में अब तक 449 ट्रेनें आ चुकी हैं। यह पूरे देश में सबसे अधिक संख्या है। प्रवासियों के लिए चलाई गई इन ट्रेनों से 5 लाख 64 हजार लोग यात्रा कर चुके हैं।

तब क्या हुआ जब रेल का इंतजार कर रहे यात्रियों के सामने पुलिस अफसर…

  • अवैध तरीके आने वाले प्रवासियों को होगी नो एंट्री!

अवनीश अवस्थी ने कहा कि अगर शनिवार और पहले यात्रा कर आए यात्रियों की संख्या को जोड़े तो लगभग 9 लाख 50 हजार लोगों को अब तक प्रदेश में लाया जा चुका है या फिर लाने वाले हैं। वहीं अब पैदल, दो पहिया वाहन और ट्रक के जरिए किसी भी प्रवासी व्यक्ति को सीमा में आने की इजाजत नहीं होगी।

  • रेलवे लाइन और पैदल यात्रा पर लगाई गई रोक

मुख्य सचिव ने निर्देश दिया है कि सभी प्रवासियों को शेल्टर होम, क्वारनटीन या अन्य जिलों में भेजे जाने के लिए पर्याप्त संख्या में प्राइवेट और स्कूल बसों की व्यस्था की जाए। वहीं जो प्रवासी पैदल या किसी दूसरे प्रकार से जिले में आते हैं तो उन्हें वहीं रोककर स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आदेशों के अनुरूप कार्रवाई की जाए। इसके अलावा किसी भी प्रवासी को सड़क या रेलवे लाइन पर न चलने से रोका जाएगा।

  • तैनात कर्मचारियों के लिए मास्क जरूरी

मुख्य सचिव ने ये निर्देश दिया है कि कोरोना वायरस को रोकने, उपचार और इससे बचाव में लगे हुए सभी कर्मचारियों को ड्यूटी के दौरान मास्क पहनना होगा। हर सार्वजनिक स्थल पर हैंड सैनिटाइजर की व्यवस्था कराई जाएगी। इसके अलावा समय-समय पर नोडल अधिकारी सभी व्यवस्थाओं का विशेष रूप से ख्याल रखें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here