अगर आप भी डीटीसी या बसों में सफर करते हैं तो अब आपको एक नई सुविधा मिलने वाली है।

डीटीसी बस में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए लोगों के लिए बड़ी खबर है अगर आप भी डीपीसी या बसों में सफर करते हैं तो अब आपको एक नई सुविधा मिलने वाली है। दरअसल अवध ट्रेन की तर्ज पर बसों में भी ई- टिकट की सुविधा सुविधा शुरू होने जा रही है इसके लिए ना तो कस्टमर होगा और ना ही कोई कागजी टिकट बस क्यूआर कोड स्कैन करके किसी भी डिजिटल माध्यम से जैसे यूपीआई या पेटीएम से किराया चुकाना होगा

अगर आप बस में यात्रा करते हैं या फिर डीटीसी बस के यात्री हैं तो यह खबर आपके लिए है। दरअसल, अब ट्रेन की तर्ज पर बसों में भी टिकट की सुविधा शुरू होगी इसके लिए ना तो कस्टमर्स को कैश देना होगा और ना ही कागजी टिकट, बस क्यूआर कोड स्कैन करके भीम, यूपीआई, पेटीएम समेत अन्य डिजिटल माध्यमों से किराया चुकाना होगा।

बता दें, IIIT (इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी) की टीम ने यात्रियों की सुविधा के लिए बसों में कांटेक्ट लेस टिकटिंग सिस्टम विकसित करने के लिए एप्लीकेशन प्रोग्राम इंटरफेस (API) और चार्ट-आर नाम से एक ऐप बनाया है। इसे लेकर IIIT के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. प्रवेश बियानी का कहना है कि क्लस्टर बसों में इसे लेकर ट्रायल किया जा चुका है और अब जल्द ही डीटीसी बसों में भी ट्रायल होगा

आपको बता दें कि ये पूरी प्रक्रिया कांटेक्ट लेस होगी। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए यात्रियों को अपने मोबाइल में इसका ऐप डाउनलोड करना होगा। जिसके बाद ऐप में एक से दूसरी जगह जाने की पूरी डिटेल के साथ ही किराए का भी विवरण दर्ज होगा। यात्री को बस में बैठने के बाद जहां उसे जाना है वहाँ का स्थान दर्ज करना होगा इसके अलावा किराए की राशि दिखाई देगी। इस प्रक्रिया के बाद यात्री बस में लगे क्यूआर कोड को स्कैन कर किसी भी डिजिटल माध्यम से किराया चुका सकते हैं। माना जा रहा है ट्रायल शुरू होने के बाद सरकार की मंजूरी मिलते ही इस महीने के आखिरी तक यात्रियों के लिए सुविधा मिल जाएगी।

मिलेगी राहत

अभी बसों में कांटेक्ट लेस टिकट का प्रावधान नहीं है। डीटीसी और क्लस्टर बसों में कार्ड स्वैप कर टिकट खरीदने का प्रावधान है। लेकिन ज्यादातर बसों में मशीन खराब होने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। नई व्यवस्था से यात्रियों को काफी राहत मिलेगी।

हर बार नहीं देना होगा ब्योरा

एप से पहली बार टिकट लेते समय ही यात्री को अपना विवरण दर्ज करना होगा। अगली बार सफर करने पर सिर्फ गंतव्य की जानकारी दर्ज करनी होगी, इसके साथ ही किराए के भुगतान का विकल्प सामने होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here