Air India

भारत और दूसरे देशों में फंसे हुए भारतीयों को वापस अपने वतन लौटने के लिए लाखों रुपए के किराया देना होगा।

7 मई से विदेश में फंसे भारतीयों को वापस अपने देश लाने के लिए महा अभियान की शुरुआत होने वाली है। ऐसे में सरकार ने ऐलान किया है कि विदेश से आने वाले भारतीयों को किराया और क्वारंटाइन का खर्च खुद चुकाना होगा। इसके लिए अब किराया भी तय कर दिया गया है। 7 से 13 मई के बीच पहले चरण में करीब 64 विमानों के जरिए 12 देशों से 15,000 लोगों को वापस लाया जाएगा।

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बताया इस दिन से शुरू होगी हवाई सेवाएं

कितना होगा किराया

प्रति व्यक्ति लंदन से दिल्ली के बीच का किराया 50,000 हजार रुपए तय किया गया है। ढाका से दिल्ली के बीच 12,000 , सिंगापुर से आने वाले व्यक्तियों को करीब 20,000 देने होंगे, लंदन से मुंबई, अहमदाबाद, बेंगलुरु के लिए भी 50,000 का किराया चुकाना होगा। अमेरिका के शिकागो से दिल्ली, हैदराबाद के लिए करीब 1 लाख का भुगतान करना पड़ेगा।

बता दें, वापस अपने देश लाने के बाद सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी, उन्हें करीब 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जाएगा। विमान में सभी तरह के सुरक्षा नियमों का पालन होगा। सऊदी अरब से 10 उड़ाने, अमेरिका, ब्रिटेन, मलेशिया से 7-7 उड़ाने, सऊदी अरब, फिलीपींस, सिंगापुर, कुवैत से 5-5 उड़ाने, इसके अलावा कतर, बहरीन, ओमान से 2-2 उड़ानें नागरिकों को देश के विभिन्न राज्यों में पहुंचाएगी। इन हवाई उड़ानों में सबसे ज्यादा 15 उड़ाने केरल आएंगी जिनमें 7 देशों से नागरिकों को वापस लाया जाएगा। तमिलनाडु और दिल्ली-एनसीआर को लेकर 11 उड़ाने दोनों राज्यों में 9-9 देशों से यात्रियों को लाया जाएगा।

केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्यमंत्री हरदीप सिंह पुरी ने यह जानकारी दी कि यह प्रस्ताव किया गया तो आरंभ में करीब एक लाख 19 हजार लोगों ने वापस आने की इच्छा जताई थी और अभी उनकी संख्या 2 लाख से भी ज्यादा हो गई है। ऐसे में उन लोगों को प्राथमिकता के तौर पर वापस लाया जा रहा है जो ज्यादा संकट में हैं। जैसे जिन लोगों का वीजा खत्म हो गया है या फिर स्थानीय सरकारों द्वारा वापस जाने के लिए कह दिया गया है।

गौरतलब है कि यात्रियों की संख्या को देखते हुए ऐसा माना जा रहा है आगे भी इसी तरह के विशेष विमानों के परिचालन की आवश्यकता पड़ सकती है। भविष्य में इस काम के लिए निजी विमान सेवा कंपनियों की भी मदद ली जा सकती है। हालांकि केवल उन्हीं यात्रियों को इन विशेष उड़ानों में सवार होने की इजाजत होगी जिनमें
कोरोना वायरस के लक्षण नहीं होंगे। यहां हवाईअड्डे पर उतरने के बाद यात्रियों की स्क्रीनिंग की जाएगी इसके बाद उन्हें 14 दिन के लिए अनिवार्य क्वारंटाइन में भेजा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here