कोरोना महामारी के बढ़ते कहर के बीच दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। शनिवार को इसे लेकर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ऐलान किया।

देश में कोरोना महामारी के बढ़ते कहर के बीच दिल्ली सरकार ने यह फैसला लिया है कि delhi government (दिल्ली सरकार) की यूनिवर्सिटी में फिलहाल कोई एग्जाम नहीं होंगे। दिल्ली सरकार की ओर से रद्द की गई इन परीक्षाओं में फाइनल ईयर की परीक्षाएं भी शामिल है। आपको बता दें कि छात्रों को डिग्री यूनिवर्सिटी द्वारा तय मापदंडों और मूल्यांकन के आधार कार्ड दी जाएगी। आज शनिवार को इसे लेकर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ऐलान किया।

इन यूनिवर्सिटी में नहीं होंगे एग्जाम

दिल्ली सरकार की IP university (आईपी यूनिवर्सिटी), ambedkar university (आंबेडकर यूनिवर्सिटी), DTU (डीटीयू) और अन्य संस्थानों में परीक्षा नही होगी हालांकि DU (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से जुड़े दिल्ली सरकार के कॉलेजों पर केंद्र अपना फैसला लेगी। दिल्ली सरकार का परीक्षा स्थगित करने के पीछे ये मानना है कि जिस सेमेस्टर को पढ़ाया नहीं गया उनकी परीक्षा कराना कठिन है।

CBSE: 10th-12th के छात्र जरूर पड़ ले ये खबर

इस मामले को लेकर जारी प्रेस कॉन्फ्रेंस पर जानकारी देते हुए manish sisodiya (उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया) ने कहा कि पूरे सेमिस्टर पढ़ाई नहीं हुई है तो ऐसे में कैसे हो सकते हैं। उन्होंने ये भी कहा कि यूनिवर्सिटीज से कहा गया है कि छात्रों को डिग्री को रोककर न रखी जाए। सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली के साथ ही दूसरे राज्यों की भी केंद्रीय यूनिवर्सिटीज की परीक्षाओं को रद्द करवाने के लिए दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पत्र भी लिखा है।

इससे पहले एचआरडी मिनिस्ट्री ने सोमवार को ऐलान किया था कि यूनिवर्सिटीज में फाइनल ईयर के एग्जाम सितंबर के आखिर में कराए जाएंगे। ये एग्जाम जुलाई में होने थे लेकिन कोरोना वायरस महामारी की वजह से उन्हें सितंबर के आखिर तक के लिए टाल दिया गया है। हालांकि, यूजीसी की नई गाइडलाइंस के मुताबिक सितंबर में फाइनल ईयर एग्जाम में हिस्सा न लेने वाले स्टूडेंट्स को एक दूसरा मौका मिलेगा और यूनिवर्सिटीज उनके लिए स्पेशल एग्जाम कराएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here