WHO

WHO (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन) के प्रमुख ने कोरोना के खतरे के साथ ही दूसरी बीमारियों के खतरे की आशंका जाहिर की है।

WHO (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के प्रमुख टेडरॉस अधनॉम ने कहा है कि देश में फैले Corona Virus (कोरोना वायरस) को खत्म होने में अभी वक्त लगेगा। इस महामारी को लेकर बच्चों को चिंता जाहिर करते हुए उन्होंने कहा की कोरोना वायरस से मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। स्वास्थ्य सेवाओं पर भी इस महामारी का असर दिखाई दे रहा है। जिससे WHO काफी चिंतित है। खासकर बच्चों के लिए भले ही अभी बच्चों पर कोरोना का खतरा और मौत का आंकड़ा कम है लेकिन दूसरी बीमारी का खतरा भी बना हुआ है। इसे वैक्सीन के जरिए रोका जा सकता।

WHO के साथ मिलकर WhatsApp ने लॉन्च किया नया स्टिकर पैक

WHO ( World Health Organisation ) प्रमुख ने कहा, जीएवीआई ग्लोबल नाम के वैक्सीन एलायंस का ये अनुमान है कि ऐसे 21 देश है जहां वैक्सीन की कमी है। वैक्सीन की कमी का कारण बॉर्डर का बंद होना है क्योंकि कोरोना वायरस के चलते बॉर्डर बंद है और परिवहन का कोई साधन नहीं है। वहीं एक नए विश्लेषण में यह बात प्रकाश में आई है कि कोरोना वायरस के कारण सहारा अफ्रिका के 41 देशों में मलेरिया के खिलाफ अभियान में रुकावट आने का अंदेशा है। हालत और बढ़ से बदतर होती है तो सब-सहारा अफ्रीका के देशों में मलेरिया से मौतों की संख्या बढ़कर दोगुनी हो जाएगी।

WHO ने भारत में फैलाई थी ये गलत खबर, अब मांगी माफी !

आपको बता दें, यूरोप के देशों में कोरोना का असर कम होने के कारण लॉक डाउन में नरमी बरती जा रही है। लेकिन इस देशों से अपील की जा रही है कि मरीज का पता लगाएं, टेस्ट करें, उनके एक-एक संपर्क का पता लगाएं ताकि वहां मरीजों की संख्या को और नियंत्रण में लिया जा सके। हालांकि अभी इस महामारी के दूर होने में अभी कुछ वक्त लगेगा। पूर्वी यूरोप, लैटिन अमेरिका, अफ्रीका और शंघाई देशों में बढ़ते इस महामारी के प्रकोप को देखते हुए डब्ल्यूएचओ अधिक चिंतित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here