चाइनीज ऐप्स पर बैन को लेकर वायरल हो रही खबर झूठी है इसे लेकर सरकार का बयान सामने आया है।

इन दिनों सोशल मीडिया पर एक मेसेज काफी तेजी से वायरल हो रहा है कि इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मिनिस्ट्री के नैशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर की तरफ से चीनी ऐप्स का प्रयोग बंद करने का आदेश दिया गया है। हालांकि अब सरकार की ओर से इसपर प्रतिक्रिया सामने आई है। सरकार ने ऐसे दावे से इनकार करते हुए इसे पूरी तरह झूठा बताया है।

क्या कहा जा रहा वायरल मेसेज में…

वायरल हो रहे इस मेसेज में ये कहा गया था कि चाइनीज ऐप्स को गूगल प्ले स्टोर और ऐपल ऐप स्टोर पर भी रिस्ट्रिक्ट किया जाएगा। वहीं इसपर सरकार का कहना है कि यह ऑर्डर पूरी तरह फेक है।

क्या कहा है सरकार ने…

इस मामले पर सरकार की ओर से कहा गया है कि गूगल या ऐपल को ऐसे कोई निर्देश नहीं दिए गए हैं। जबकि वायरल मेसेज में कहा जा रहा है कि भारत सरकार ने गूगल और ऐपल के रीजनल एग्जक्यूटिव और रिप्रेजेंटेटिव्स से कहा है कि ‘चाइनीज ऐप्लिकेशंस को फौरन उनके स्टोर पर रिस्ट्रिक्ट कर दिया जाए।’ इसके साथ ही ऐप्स की लिस्ट भी सांझा की जा रही है। इस लिस्ट में TikTok, VMate, Vigo Video, LiveMe, Bigo Live, Beauty Plus, CamScanner, Club Factory, Shein, Romwe और AppLock शामिल हैं।

आपको बता दें कि चाइनीज ऐप्स की इस जारी लिस्ट में कई गेम्स जिनमें Mobile Legends, Clash of Kings और Gale of Sultans भी शामिल है। इस मेसेज में ये कहा जा रहा है कि इन ऐप्स (application) की सहायता से यूजर्स की प्रिवेसी को खतरा है और देश को भी नुकसान पहुंचाया जा सकता है। PIB के ऑफिशल ट्विटर हैंडल से इस बारे में ट्वीट कर ये कहा गया है कि यह ऑर्डर पूरी तरह झूठा है। ऐसे किसी भी तरह के कोई आदेश भारत सरकार या मंत्रालय के जरिए किसी को नहीं दिए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here