अनामिका शुक्ला नाम की एक शिक्षिका एक ही पद पर 25 स्कूलों में तैनात पाई गई है। करीब 13 महीनों में वह 1 करोड़ की सैलरी उठा चुकी है।

उत्तर प्रदेश प्रशासन की नींद उस वक्त एक शिक्षिका ने उड़ा दी जब अनामिका शुक्ला नाम की एक शिक्षिका एक ही पद पर 25 स्कूलों में तैनात पाई गई और करीब 13 महीनों में वह 1 करोड़ की सैलरी उठा चुकी थी। जैसे ही प्रशासन को इस पूरे मामले की भनक लगी पुलिस ने इसे शिक्षिका के खिलाफ जांच शुरू की और बाद में इसे गिरफ्तार भी कर लिया गया

बेसिक शिक्षा विभाग के मुताबिक, शिक्षकों का डिजिटल डेटाबेस तैयार किया जा रहा है और इस प्रक्रिया के दौरान केजीबीवी में काम करने वाली पूर्णकालिक शिक्षिका रायबरेली, अमेठी, अलीगढ़, अंबेडकरनगर, प्रयागराज और अन्य जिलों में एक साथ 25 स्कूलों में कार्यरत पाई गई। वहीं जब किस शिक्षकों को विभाग की ओर से नोटिस किया गया तो, शिक्षिका ने इसका कोई जवाब नहीं दिया जिसके बाद कार्यवाही करते हुए विभाग ने उस शिक्षकों के वेतन को तुरंत रोका और अब उसे इस घोटाले में दोषी पाते हुए गिरफ्तार किया गया है।

शिक्षा मंत्री ने दिया था FIR का आदेश

यूपी के बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने जानकारी देते हुए कहा कि शिक्षिका के खिलाफ FIR दर्ज कराने के निर्देश दे दिए हैं। उन्होंने कहा, “विभाग ने जांच का आदेश दिया है और आरोप सच होने पर शिक्षिका के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हमारी सरकार के सत्ता में आने के बाद से डिजिटल डेटाबेस पारदर्शिता के लिए बनाया जा रहा है. यदि विभाग के अधिकारियों की कोई संलिप्तता है तो कार्रवाई की जाएगी. अनुबंध के आधार पर केजीबीवी स्कूलों में भी नियुक्तियां की जाती हैं. विभाग इस शिक्षिका के बारे में तथ्यों का पता लगा रहा है.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here