Chanakya Niti

आचार्य चाणक्य ने ऐसी पांच चीजों का उल्लेख अपनी नीतियों में किया है जिनका पालन कर व्यक्ति खुद को धोखे से बचा सकता है।

बहुत से लोगों की ऐसी शिकायतें होती है कि वह इंसान को समझ नहीं पाते और उन पर भरोसा कर धोखे का शिकार होते हैं। ऐसे लोगों के लिए चाणक्य ने अपनी नीतियों में पांच ऐसी बातें बताई हैं जिनका अनुसरण कर कर व्यक्ति धोखा नहीं खाता। तो चलिए आपको बताते हैं कौन सी है चाणक्य की वो बातें….

Chanakya Niti: इस तरह के चार दोस्त मरने के बाद भी…

  • कमजोरी

चाणक्य की माने तो इंसान को कभी अपनी कमजोरियों को किसी दूसरे के सामने नहीं बताना चाहिए। कोशिश यह होनी चाहिए कि आपकी कमजोरी सामने वाले के सामने उजागर ना हो। आपकी कमजोरियों का पता लगते ही दूसरे इसका फायदा उठाते हैं और मौका पाकर आपको धोखा देते हैं।

  • मोह

कहते हैं अगर इंसान को खुद पर नियंत्रण हो तो वह हर तरह के धोखे से खुद को बचा सकता है। चाणक्य की माने तो मनुष्य को किसी दूसरे व्यक्ति के प्रति ज्यादा लगाव नहीं रखना चाहिए क्योंकि जब किसी रिश्ते में दोनों तरफ से बराबर एक जैसा व्यवहार ना हो तो धोखा मिलना निश्चित होता है।

  • सत्य

एक समय बाद झूठ बोलने वाले व्यक्ति को निराशा हाथ लगती ही है जबकि सत्य और सच्चाई के मार्ग पर चलने वाले व्यक्ति को हमेशा कठिन परिस्थितियों में भी खुद को बचाने की शक्ति मिलती है। चाणक्य की माने तो सत्य का साथ देने वाले व्यक्ति पर भगवान की कृपा बरसती है। अगर ऐसे व्यक्ति के साथ कोई धोखा भी कर देता है तो वह जल्दी ही इससे उबर जाते हैं।

  • लालच

किसी व्यक्ति को अपने दोस्त बनाने से पहले इस बात को जांच लेना चाहिए कि सामने वाला किसी लालच में तो आपके साथ जुड़ नहीं रहा। लालची व्यक्ति का सर्वनाश जल्द हो जाता है इसलिए न सिर्फ मनुष्य को लालची व्यक्ति से दूरी बनाकर रखनी चाहिए बल्कि खुद भी लालच से दूर रहना चाहिए।

  • ज्ञान

ज्ञान का होना काफी जरूरी है क्योंकि ज्ञानी व्यक्ति जीवन में अपना हर फैसला सोच समझ कर लेता है। ज्ञानी व्यक्ति विकट परिस्थितियों में भी आसानी से खुद को निकाल लेता है। ऐसे में धोखा पाने की संभावना खत्म हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here