success in job and business

जो भी व्यक्ति नौकरी या बिजनेस में सफलता प्राप्त करना चाहता है। उन लोगों को नीचे दी 6 बातों का ख्याल रखना चाहिए।

जीवन में अपने लक्ष्य को सफलतापूर्वक पाना किसकी चाहत नहीं होती। हर कोई व्यक्ति अपने सपने को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत करता है। हालांकि कई बार वह सफल नहीं हो पाता। ऐसे में आचार्य ने चाणक्य नीति ग्रंथ में ऐसी 6 बातों के बारे में उल्लेख किया है जिसे ध्यान में रखकर किसी भी कार्य में सफलता प्राप्त की जा सकती है। चाणक्य नीति के चौथे अध्याय के 18वें श्लोक में चाणक्य ने सफलता के लिए इन नीतियों को जरूरी बताया है। तो चलिए जानते हैं इनके बारे में…

सफलता पाने के लिए इंसान को जरूर करनी चाहिए ये 3…

क: काल: कानि मित्राणि को देश: कौ व्ययागमौ।

कस्याऽडं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुंहु:।।

  • चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि उनके जीवन में वर्तमान समय में क्या स्थिति चल रही है, आने वाला कैसा दिन होगा, दिन सुख वाले हैं या दुख वाले। ऐसे लोग समझदार और हमेशा सफल रहते हैं क्योंकि वह समय और परिस्थिति के अनुसार कार्य करते हैं। वहीं जो इन चीजों से अनजान होते हैं उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ता है।
  • इस श्लोक में आचार्य चाणक्य कहते हैं कि मनुष्य को उसके सच्चे मित्र के बारे में सब कुछ पता होना चाहिए। अगर कोई व्यक्ति दोस्त के रूप में मौजूद दुश्मन को नहीं पहचान पाता तो जीवन में उसका सफल होना पक्का है क्योंकि उसका शत्रु हर कार्य में बाधा पैदा करता है।
चाणक्य नीति: जहां नहीं हो ये 5 चीजें वहां नहीं बनाना…
  • चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को अपने कार्यस्थल काम करने वाली जगह और रहने वाले स्थान के बारे में जानकारी होने जरूरी है। आसपास के लोग कैसे हैं, किस तरह के लोगों के साथ काम कर रहें हैं, इसकी जानकारी होना जरूरी है। ऐसे में व्यक्ति धोखा नहीं खाता और अपने काम में सफलता हासिल करता है।
  • आचार्य चाणक्य उन लोगों को समझदार कहते हैं जो अपनी आमदनी और खर्चों का हिसाब रखता है। अगर कोई व्यक्ति आय को देखे बिना ही बेहिसाब खर्च कर देता है तो वह व्यक्ति आने वाले कुछ दिनों में मुसीबत का सामना करता है।
  • किसी भी संस्थान में काम करते वक्त मालिक की रूचि को जानकारी में रखना चाहिए। अगर आपका काम बॉस की नजर में सही है तो आप सफलता के रास्ते पर तेजी से बढ़ सकते हैं और फायदे की संभावना भी बढ़ जाती है। अगर आप किसी संस्थान में काम कर रहे हैं तो उसके लाभ के प्रति मन लगाकर काम करना चाहिए।
  • व्यक्ति को अपनी क्षमता के बारे में पता होना चाहिए। वह क्या और किस हद तक किसी कार्य को कर सकता है। इसके साथ ही व्यक्ति को अपने सामर्थ्य के हिसाब से काम करना चाहिए। अपनी क्षमता से बाहर जाकर काम करना हमेशा नुकसान दायक होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here