नए महीने की शुरुआत के साथ ही त्यौहारों का क्रम शुरू हो गया है।

आज से अप्रैल के महीने की शुरुआत हो गई है। इस महीने में हिन्दू धर्म के कई त्योहार पड़ रहे हैं। इन त्योहारों में नवरात्रि का समापन, रामनवमी, हनुमान जयंती, अक्षय तृतीय जैसे अन्य बड़े त्यौहार शामिल हैं। तो चलिए जानते है अप्रैल में पड़ने वाले त्यौहार और उनके तारिखों के बारें में-

मासिक दुर्गाष्टमी
वैसे तो मासिक दुर्गाष्टमी हर महीने आती है। लेकिन अप्रैल में ये मासिक दुर्गाष्टमी 1 अप्रैल के दिन पड़ रही है। दुर्गाष्टमी के दिन मां महागौरी की उपासना यानी उनकी पूजा-अर्चना की जाती है। मां गौरी की आराधना से भक्त की सारी आर्थिक परेशानियां दूर हो जाती है और मां से मनचाहे विवाह का वरदान भी मिलता है।

रामनवमी पर्व
हिन्दू धर्म का एक पावन त्यौहार रामनवमी है। यह पर्व इस साल 2 अप्रैल के दिन आ रहा है। यह दिन भगवान श्रीराम को समर्पित है। बता दें, मान्यताओं को मुताबिक इस दिन मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम का जन्म हुआ था। ,

चैत्र नवरात्रि का समापन
राम नवमी के साथ ही 2 अप्रैल को चैत्र नवरात्रि का समापन होने वाला है। इस दिन चैत्र शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है। यह नवरात्रि के आखरी दिन हैं। इस दिन मां सिद्धिदात्रि को पूजा जाता है साथ ही इसी दिन स्वामीनारायण जयंती भी है।

कामदा एकादशी
पापों से मुक्ति पाने के लिए इस दिन उपवास यानी व्रत रखा जाता है। इस साल एकादशी 4 अप्रैल को मनाई जाएगी। बता दें कि चैत्र शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को कामदा एकादशी भी कहते हैं।

महावीर जयंती
चैत्र शुक्ल त्रयोदशी को महावीर जयंती मनाई जाती है। इस साल ये जयंती 6 अप्रैल को आ रही है। यह जैन समुदाय का सबसे प्रमुख पर्व है।

चैत्र पूर्णिमा
चैत्र पूर्णिमा के दिन चंद्रमा अपने पूर्ण रूप में होता है। हिन्दू पंचांग के मुताबिक, यह चैत्र माह की आखिरी तिथि होती है। इस दिन बहुत से लोग व्रत रखते है। इस साल 8 अप्रैल के दिन ये चैत्र पूर्णिमा का पर्व मनाया जाएगा।

हनुमान जयंती
हनुमान जयंती को धार्मिक दृष्टि से बड़ा पर्व माना जाता है। चैत्र माह की पूर्णिमा के दिन पवन पुत्र हनुमान का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस साल ये जयंती 8 अप्रैल के दिन मनाई जाएगी।

बैसाखी
पंजाब, हरियाणा के साथ उत्तरी भारत के लिए बैसाखी एक प्रमुख त्योहार है। इस साल इस पर्व का आयोजन 13 अप्रैल के दिन मनाया जाएगा।

परशुराम जयंती
अक्षय तृतीया के दिन ही परशुराम जयंती को मनाया जाता है। भगवान विष्णु के अवतार परशुराम का जन्म वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर हुआ था।

अक्षय तृतीया
अक्षय तृतीया को (आखा तीज) के नाम से भी जाना जाता है। ये दिन हिंदुओं के लिए अत्यधिक शुभ और पवित्र दिन माना जाता है। यह पर्व वैशाख माह में शुक्ल पक्ष तृतीया के अंतराल में पड़ता है। इस साल 26 अप्रैल के दिन इसे मनाया जायगा।

शंकराचार्य जयन्ती
गुरु शंकराचार्य की जयंती के साथ इसी दिन सूरदास जयंती, रामानुज जयंती और स्कंद षष्ठी का भी आयोजन किया जाता है। इस साल ये जयंती 28 अप्रैल के दिन मनाई जाएगी।

गंगा सप्तमी
माना जाता है कि इसी दिन ब्रह्मा जी के कमंडल से मां गंगा की उत्पत्ति हुई थी। 30 अप्रैल को गंगा का प्राकट्य दिवस गंगा सप्तमी वैशाख शुक्ल सप्तमी को मनाया जाएगा। ऐसा कहा जाता है इसी दिन भगीरथ के तप से प्रसन्न होकर गंगा शिव की जटाओं में समाहित हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here