Narender Modi

बुद्धपूर्णिमा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को संबोधित करते हुए उनकी नीतियों पर चलने की बात कही।

देशभर में जारी कोरोनावायरस के कहर के बीच बुद्ध पूर्णिमा का पर्व मनाया जा रहा है। ऐसे में बुध पूर्णिमा के अवसर पर एक वर्चुअल कार्यक्रम का आयोजन हुआ जिसका हिस्सा दुनिया भर के कई बड़े नेता बने। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान बुद्ध द्वारा दिए गए कई उपदेशों को भी शामिल किया।

Buddha Purnima 2020, जानें क्या है बुद्ध पूर्णिमा पर पूजा का शुभ मुहूर्त और…

  • इस बार परिस्थितियां अलग, दुनिया मुश्किल वक्त से गुजर रही

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा इस बार परिस्थितियां अलग है, दुनिया मुश्किल वक्त से गुजर रही है। पीएम मोदी ने कहा की आप लोगों के बीच आना मेरे लिए किसी सौभाग्य से कम नहीं होता लेकिन वर्तमान स्थिति इसकी इजाजत नहीं देती। भगवान बुद्ध के कदमों पर आज भारत चलकर हर किसी की मदद कर रहा है, फिर चाहे वह देश हो या विदेश, इस समय कोई भी लाभ-हानि को नहीं देख रहा।

  • भारत बिना स्वार्थ के साथ दुनिया के साथ खड़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि भारत बिना किसी स्वार्थ के इस समय दुनिया के साथ खड़ा है। हमें अपने अलावा अपने परिवार और आसपास की सुरक्षा भी करनी होगी। इस संकट के समय हमें हर किसी की मदद करनी चाहिए यहीं हम सबका धर्म है। इसके अलावा अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा कि हमारा काम निरंतर सेवा भाव से होना चाहिए दूसरों के लिए सेवा, करुणा हमेशा जारी रहनी चाहिए।

सफलता पाने के लिए इंसान को जरूर करनी चाहिए ये 3 काम

  • समाज बदल चुका है, लेकिन बुद्ध का संदेश नहीं

अपने संबोधन में बुद्ध को शामिल करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की बुद्ध किसी एक परिस्थिति तक सीमित नहीं है, बुद्ध हर किसी को मानवता के तहत मदद करने की बात कहते हैं। आज समाज की व्यवस्था बदल चुकी है लेकिन भगवान बुद्ध का संदेश वहीं है और हम सभी के जीवन में उनका एक खास स्थान रहा है।

  • बुद्ध की सीख जरूरी

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज देश के अलग-अलग हिस्सों में लोग दुनिया में अपनी-अपनी तरह से लोगों की मदद कर रहें हैं, चाहे फिर सड़क पर लोगों को कानून का शासन करवाना हो या बीमार का इलाज, हर कोई अपनी ओर से सेवा कर रहा है। आज दुनिया में उथल-पुथल की स्थिति है, ऐसे में बुध की सीख जरूरी हो जाती है।

इस कार्यक्रम के तहत कोरोना वायरस से संक्रमित और जंग लड़ रहे कोरोना वॉरियर्स का सम्मान किया गया। कार्यक्रम में दुनिया भर के कई बौद्ध नेता शामिल होंगे जो कि कोरोना के खिलाफ जारी लड़ाई में अपनी ओर से राय देंगे।

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण इस साल काफी सावधानी बरती जा रही है। इस बार सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) को ध्यान में रखते हुए बुद्ध पूर्णिमा समारोह वर्चुअल स्तर पर आयोजित किया जाएगा।

आपको बता दें की यह आयोजन कोरोना वायरस के पीड़ितों और मेडिकल स्टाफ, डॉक्टर और पुलिसकर्मी तथा अन्य के सम्मान में आयोजित किया जा रहा है। बता दें, इससे पहले भी पीएम मोदी कई अंतरराष्ट्रीय कार्यक्रम में वर्चुअली शामिल हो चुके हैं, जहां पर कोरोना वायरस को लेकर चर्चा हुई है और आगे को लेकर रणनीति बनाई गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here