jacinda ardern

पूरी दुनिया इस वक्त महामारी कोरोना वायरस का सामना कर रही है। इस वायरस के कारण सब कुछ बन्द है जिससे देशों की अर्थव्यवस्था निचले स्तर पर पहुँच गई है।

कोरोना वायरस की मार झेल रहे सभी देश आर्थिक रूप से पस्त हो चुकें हैं। इस बीच न्यूजीलैंड ने देश की अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए जोर लगाना शुरू कर दिया है। बता दें,  न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जसिंडा अर्डर्न New Zealand Prime Minister Jacinda Ardern  ने नियोक्ताओं को चार दिन का वर्क वीक रखने का सुझाव दिया है। अर्डर्न का ये कहना है कि इस तरह से पर्यटन को तो बढ़ावा मिलेगा ही साथ ही लचीले कामकाजी विकल्पों से प्रोडक्टिविटी भी बढ़गी। इसके अलावा इस तरह से काम करने से वर्क लाइफ बैलेंस (काम/ जीवन संतुलन) भी रखने में सहायता मिलेगी।

एक फेसबुक लाइव वीडियो में प्रधानमंत्री जसिंडा अर्डर्न ने कहा कि अर्थव्यवस्था और घरेलू पर्यटन को प्रोत्साहित करने के लिए देशभर से कई लोगों के सुझाव सामने आए थे। लोगों का ये कहना है कि वर्क वीक 4 दिनों का होना चाहिए। इस सुझाव को ध्यान में रखते हुए ही ये फैसला लिया गया है। नियोक्ताओं को सुझाव देते हुए जसिंडा ने कहा था कि उन्हे इस बात पर विचार करना चाहिए। इससे देश को भी फायदा मिलेगा।

कोरोना संकट के बीच HCL का सैलरी और बोनस को लेकर बड़ा ऐलान

न्यूजीलैंडवासियों को प्रधानमंत्री जसिंडा अर्डर्न की इस अनौपचारिक टिप्पणियों ने खुश कर दिया है। खासकर उन लोगों को जो सवाल पूछ रहे थे कि क्या भूकंपीय (seismic), प्रणालीगत परिवर्तन (systemic change) महामारी से उत्पन्न होंगे और क्या आम जन जीवन सामान्य रूप से वापस आ पाएगा?

अर्डर्न ने बताया कि कई न्यूज़ीलैंडर्स ने ये कहा कि अगर वे अपने कामकाजी जीवन में अधिक लचीलापन रखते तो वे ज्यादा घरेलू यात्रा (domestically travelling) कर पाते। वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस के कारण देश के पर्यटन बाजार में भारी गिरावट आई है क्योंकि देश की सभी सीमाएं विदेशी नागरिकों के लिए बंद रखी गई हैं।

जसिंडा अर्डर्न ने कहा, “मैंने बहुत से लोगों को यह सुझाव देते हुए सुना कि कर्मचारियों के लिए चार दिन का वर्कविक होना चाहिए. लेकिन जैसा कि मैंने कहा है कि हम कोरोना वायरस से बहुत कुछ सीख चुके हैं और जो लोग लचीलेपन में घर से काम कर रहे हैं वह भी अच्छी प्रोडक्टिविटी दे रहे हैं.”

जसिंडा अर्डर्न ने आगे कहा, “मैं वास्तव में लोगों को इस बारे में सोचने के लिए प्रोत्साहित करती हूं कि यदि आप एक नियोक्ता ( employer) हैं और ऐसा करने की स्थिति में हैं. इसके बारे में विचार जरूर कीजिए क्योंकि इस तरह से निश्चित रूप से पूरे देश में पर्यटन को मदद मिलेगी”।

आपको बता दें ऐसा माना जा रहा है चार दिन का वर्क वीक रखने से लोगों का ध्यान काम पर अच्छे से लगेगा, काम में निखार आएगा इसके अलावा लोगों का स्वास्थ्य भी बेहतर रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here