patient

मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में एक निजी अस्पताल में पैसे नहीं जमा करा पाया 80 वर्षीय बुजुर्ग तो अस्पताल प्रशासन ने बांधे-हाथ पैर।

अस्पताल को एक तरह से मंदिर माना जाता है और वहां मौजूद डॉक्टरों को भगवान क्योंकि जैसे मंदिर में जाकर भक्त अपने सारे दुखों को भूल जाता है वैसे ही अस्पताल जाकर व्यक्ति के सारे रोग ठीक हो जाते हैं लेकिन मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले में एक निजी अस्पताल की ऐसी हैरान करने वाली तस्वीर सामने आई है जिसे देख आप यकीन नहीं करेंगे। दरअसल, यहां एक 80 साल के बुजुर्गों को उस वक्त पर पलंग से बांध दिया गया जब उसके परिजनों उपचार के लिए जरूरी रकम जमा नहीं कर पाए।

संवाददाताओं को शीला दांगी ने बताया कि अस्पताल।के एक निजी नसिंर्ग होम में उसने अपने बुजुर्ग पिता जिनका नाम लक्ष्मी नारायण दांगी उम्र 80 साल है उन्हें करीब एक हफ्ते पहले अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। लक्ष्मी नारायण दांगी को पेट से जुड़ी तकलीफ है। मिली जानकारी के मुताबिक, इलाज के लिए अस्पताल प्रबंध ने पहले छह हजार, फिर पांच हजार रुपए मांगे, जिसे मरीज के परिजनों द्वारा जमा करा दिया गया।

वहीं, शीला का आरोप है कि जब शनिवार की सुबह उसने पैसे न होने पर पिता को अस्पताल से छुट्टी की बात कही तो कर्मचारियों ने पहले फाइल देने में आना कानी की और बाद में 11,270 रुपए की मांग शुरू कर दी। इतना ही नहीं एडमिट मरीज पिता की पेशाब की नली भी नहीं निकाली और बाद में पलंग से हाथ-पैर बांध दिए।

कल से खुल जाएंगे दिल्ली के सभी बॉर्डर, अब दिल्ली के अस्पताल में बस…

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रकाश विष्णु फुलंबीकर ने कहा, ‘इस मामले की जांच के लिए जिलाधिकारी ने अनुविभागीय अधिकारी, राजस्व (एसडीएम) के नेतृत्व में तीन सदस्यीय दल गठित किया, जिसमें दो चिकित्सक है। इस दल ने जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी है। वहीं निजी अस्पताल प्रबंधन को नोटिस जारी किया गया है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here