Habits and Planet Connection

व्यक्ति अपनी आदतों से पहचान सकता है कि उसके कौन से ग्रह उसके लिए अशुभ है।

वैसे तो व्यक्ति छोटी-मोटी बीमारियों जैसे बुखार, जुखाम, खांसी, सर्दी से घिरा ही रहता है या फिर कई बार कुछ ऐसी परेशानी होती है जो तमाम कोशिशों के बाद भी नहीं सुलझतीं। ऐसे में अगर आप अपनी आदतों पर ध्यान दें तो आपको कुछ राहत मिल सकती है। हो सकता है शायद आपको ये पढ़कर थोड़ी हैरानी हो लेकिन ज्योतिष शास्त्र इसकी पैरवी करता है। इसके अनुसार व्यक्ति की आदतें उसे बना भी सकती है और बिगाड़ भी। कुछ आदतों के लिए व्यक्ति खुद ही जिम्मेदार होता है और कुछ के लिए ग्रह जिम्मेदार होते हैं। लेकिन अगर इनकी समय रहते पहचान कर ली जाए तो कई दिक्कतों से आप बच सकते हैं। तो चलिए आपको बताते हैं कौन सी आदतें आपके किस ग्रह के बिगड़ने का संकेत दे रही है।

Chanakya Niti: इस तरह के चार दोस्त मरने के बाद भी…

  • स‍िर खुजलाने की आदत

कुछ लोगों को सिर में खुजली करने की समस्या रहती है। कई लोग तो अचानक ही अपना सिर खुजलाने लगते हैं। अगर आप भी ऐसी आदत से परेशान हैं तो इसे तुरंत बदल दें क्योंकि ज्योतिष शास्त्र कहता है कि यह आदत केतु ग्रह की दशा का संकेत देता है। यह ग्रह जब खराब हो तो कोर्ट कचहरी, बेवजह के झगड़े, दांपत्य जीवन में तकलीफ, भूत प्रेत बाधा, असाध्य रोगों की समस्या आपको हो सकती है। ऐसे में किसी जानकार की राय लेकर केतु शांति के उपाय को अपनाएं।

  • बार-बार खाने की आदत

एक निश्चित समय पर खाना खाने के बावजूद कई बार आपको बार-बार खाने की आदत बनने लग जाती है। अगर आप भी इस आदत से ग्रस्त हैं तो सतर्क हो जाएं। ज्योतिष शास्त्र में कहा गया है बार-बार खाने की आदत शनि और बुध दोनों ग्रह के अशुभ प्रभाव का संकेत देता है। इससे व्यापार में नुकसान, झूठे दोषारोपण, त्वचा संबंधी रोग, अपनों के साथ रिश्तो में दूरियां, स्नायु तंत्र शारीरिक दर्द जैसी समस्या हो सकती है। कई बार तो व्यक्ति का बाहर चलना फिरना तक बंद हो जाता है। इसलिए अगर आपको भी यह आदत है तो इसे तुरंत बदल लें।

क्या आपको भी सपने में नज़र आते हैं जानवर, तो जानिए…

  • बीच में बोलने की आदत

ऐसा कहा जाता है जबकि दो लोग बात कर रहें हों तो तीसरे व्यक्ति को बीच में नहीं बोलना चाहिए। अगर आपको यह आदत हो तो इसे तुरंत बदल लेना चाहिए क्योंकि ये आदत चंद्रमा के खराब होने का संकेत है। इस ग्रह के खराब होने से व्यक्ति को नींद ना आने की समस्या रहती है क्योंकि चंद्रमा सोच को नियंत्रित करता है। नींद न आने से कई तरह की मानसिक समस्याओं का सामना व्यक्ति को करना पड़ सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, इस आदत को जितनी जल्दी हो सके बदल देना चाहिए साथ ही जानकार की सहायता से चंद्रमा की दशा को शांत करने के उपाय अपनाने चाहिए।

  • अचानक बार-बार भूलने की आदत

अगर आप अचानक चीजों के नाम, चीजों को या फिर रोजमर्रा के काम को अचानक से ही भूलने लग जाएं या लापरवाही बरतने लग जाएं तो, ज्योतिष शास्त्र कहता है कि यह शुक्र ग्रह के खराब होने का संकेत है। इसके खराब होने से यौन संबंधी समस्याएं, गुर्दे संबंधी परेशानियां, कामेच्‍छा की समाप्ति, पैरों में तकलीफ, अंतड़‍ियों संबंधी परेशानी हो सकती है। इसलिए ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज ना करें। किसी जानकार की राय लेकर शुक्र ग्रह को शांत करें। यह भी ध्यान रखें कि ऐसी परेशानियों में डॉक्टर की सलाह लेने में जरूरी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here