Aurangabad train accident

औरंगाबाद में दर्दनाक हादसा सामने आया है। यहां करीब एक दर्जन मजदूरों को मालगाड़ी ने रौंद दिया।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद में रूह कपा देने वाली खबर सामने आई है। यहां रेल की पटरी के सहारे घर जा रहे मजदूरों को रेलगाड़ी ने रौंद दिया। बता दें, यह हादसा औरंगाबाद के जालना रेलवे लाइन के पास हुआ। इस हादसे में करीब एक दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि कई दूसरे मजदूरों के घायल होने की खबर है।

विशाखापट्टनम: फिर हुई गैस लीक, अबतक 11 लोगों की हो चुकी है मौत

मिली जानकारी के मुताबिक, रेलवे लाइन पर यह हादसा सुबह 6:30 बजे के करीब हुआ। वहीं, अब इस घटना पर रेल मंत्री द्वारा जांच के आदेश दिए गए हैं।

कहा जा रहा है यह हादसा तब हुआ जब सभी प्रवासी मजदूर पैदल अपने घर जा रहे थे। घटना के बाद स्थानीय प्रशासन और रेलवे के अधिकारी मौके पर पहुंचकर घटना का जायजा ले रहे हैं। बताया जा रहा है यह सभी मजदूर मध्य प्रदेश के रहने वाले थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना में मृतक मजदूरों के परिवार वालों को 5-5 लाख रुपए के मुआवजे का ऐलान किया है। साथ ही रेल मंत्री से बात कर घायलों की हर संभव मदद करने की बात कही है।

रेलवे की ओर से बयान जारी किया गया

दक्षिण सेंट्रल रेलवे की चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर का घटना को लेकर कहना है कि औरंगाबाद में कर्माड के पास हादसा हुआ है, जहां मालगाड़ी का एक खाली डब्बा कुछ मजदूरों के ऊपर से चला गया। आरपीएफ और स्थानीय पुलिस मौके पर मौजूद है।

दिल्ली: बदला शराब खरीदने का नियम, अब ऐसे खरीदनी होगी

वहीं, भारतीय रेलवे की ओर से इस हादसे पर जो बयान जारी किया गया है उसमें यह कहा गया है कि औरंगाबाद से कई मजदूर पैदल ही अपने घरों की ओर सफर कर रहे थे। कुछ किलोमीटर चलने के बाद यह लोग ट्रैक पर आराम करने के लिए रुके, उसी वक्त मालगाड़ी आई और मजदूर उसे मालगाड़ी की चपेट में आ गए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख

इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा है कि औरंगाबाद में हुए रेल हादसे में जिनकी जान गई है, उसे काफी दुख हुआ है। पीएम मोदी ने घटना को लेकर रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात की है और हालत का जायजा लेने की आदेश दिया है।

आपको बता दें कि देशभर में कोरोना की मार के बाद लॉक डाउन लगा दिया गया था। इस देशव्यापी लॉक डाउन की वजह से हजारों मजदूर देशभर में फंस गए थे जिसके बाद ये पैदल ही अपने गांव और घरों की तरफ निकल गए। हालांकि अब राज्य सरकारों की ओर से सिफारिश के बाद स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलाई जा रही है। इस दौरान राज्य सरकारों की तरफ से जो लिस्ट दी जा रही है उन्हीं लोगों को ट्रेन में सफर करने की इजाजत दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here