HCL

दुनिया पर जारी कोरोना संकट के बीच देश की सबसे बड़ी कंपनी HCL ने कर्मचारियों के लिए एक बड़ा ऐलान किया है।

इस वक्त पूरा देश कोरोना की मार झेल रहा है। ऐसे में लोगों को उनकी नौकरी पर संकट के बादल घिरते दिख रहे हैं लेकिन इस बीच HCL (हिंदुस्तान कम्प्यूटर लिमिटेड) टेक्नोलॉजी ने जो फैसला लिया है वो तारीफ लायक है। दरअसल, कंपनी की ओर से यह फैसला लिया गया है कि कंपनी अपने कर्मचारियों के वेतन में किसी भी तरह की कोई कटौती नहीं करेगी।

आने वाले कुछ दिनों में आसमान से बरसेगी आग!, तापमान 45 डिग्री तक पहुंचने…

इतना ही नहीं कंपनी ने अपने कर्मचारियों को पिछले साल का बोनस देने का भी निर्णय लिया है। हालांकि कंपनी द्वारा यह भी साफ किया गया है कि कोरोना वायरस के कारण कारोबार और आय में बहुत असर पड़ा है लेकिन फिर भी कंपनी की भी कर्मचारी को काम से नहीं निकालेगी।

यही नहीं, बीते दिनों कंपनी ने कहा था कि वित्त वर्ष 2015 की योजना के मुताबिक इस साल 15,000 फ्रेशर्स को कंपनी जॉब देगी हालांकि, इस काम में थोड़ा समय लग सकता है

गूगल ऐप में बड़ा बदलाव, बदल जाएगा सर्च इंजन का लुक

कोरोना का कंपनी के कारोबार पर असर पड़ा

कंपनी के चीफ ह्यूमन रिसोर्स ऑफिसर अपैरो वीवी ने कहा कि कंपनी के प्रोजेक्ट कैंसिल नहीं हुए हैं। अभी भी करीब 5000 लोगों की कंपनी को जरूरत है, जिसके लिए भर्तियां चल रही हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के कारण बने संकट के कारण ट्रांसपोर्टेशन और मैन्युफैक्चरिंग पर प्रभाव दिख रहा है। क्लाइंट्स के लिए भी यह कठिन समय है।

गौरतलब है कि HCL देश की तीसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर कंपनी है। कंपनी की मानें तो साल 2008 की मंदी के समय भी कर्मचारियों की सैलरी में किसी भी प्रकार की कैंची नहीं चलाई गई थी और ना ही अब चलाई जाएगी। वहीं, बोनस को लेकर कंपनी का यह मानना है कि यह 12 महीनों के काम का रिजल्ट होता है उसे नहीं देना एक गलत फैसला होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here