Ghaziabad

कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए गाजियाबाद में 31 मई तक लॉक डाउन की गाइडलाइंस लागू रहेंगी। डीएम ने इसे लेकर निर्देश जारी किए हैं।

देशभर में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए गाजियाबाद में लॉकडाउन की समयावधि 31 मार्च तक के लिए आगे बढ़ा दी गई है। मंगलवार को गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे ने निर्देश जारी करते हुए कहा कि 4 मई से देशभर में लॉक डाउन 3.0 चल रहा है जो फिलहाल 17 मई तक चलेगा। ऐसे में गाजियाबाद प्रशासन का ये फैसला महत्वपूर्ण संकेत देता है। दूसरे जिलों के लिए ये फैसला नजीर बन सकता है और आगे कोरोना के केस सामने आने के बाद दूसरे जिले या राज्य सरकारें इस तरह से लॉकडाउन संबंधी पाबंदियों को 17 मई से आगे जारी बढ़ा सकती हैं।

दूसरे देशों में फंसे भारतीयों की वतन वापसी का सरकार ने किया ऐलान

  • खेल, रैली, जुलूस सब पर पाबंदी

माना जा रहा है कि कोरोनावायरस के मामले को देखते हुए 17 मई को लॉक डाउन 3.0 की अवधि खत्म होने के बाद भी राहत नहीं मिलेगी। गाजियाबाद के जिलाधिकारी के निर्देशों के अनुसार, 31 मई 2020 तक जिले में किसी भी तरह के राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक, खेल संबंधी कोई कार्यक्रम नहीं होंगे। इसके अलावा प्रदर्शन, जुलूस, रैली जैसे कार्यक्रम भी नहीं होंगे। आम लोगों के लिए धार्मिक स्थल बंद रहेंगे। इकट्ठा होने पर रोक लगी है, विवाह संबंधी और अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी।

  • सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर लगेगा जुर्माना

जिन लोगों के पास ‘पास’ है वह भी शाम 7 बजे से सुबह 7 बजे तक कभी इस तरह गतिविधि नहीं कर सकते। इसमें स्वास्थ्य संबंधी, आपातकालीन कामों के लिए छूट दी गई हैं। चार पहिया वाहनों पर ड्राइवर के अलावा दो अन्य लोग सवार हो सकते हैं। दुपहिया वाहन पर केवल 2 लोगों को बैठने की इजाजत दी गई है। वहीं, सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर पाबंदी है। अगर कोई ऐसा करता हुआ पाया जाता है तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा इसके अलावा मास्क लगाए बिना बाहर निकलने पर कार्रवाई की जाएगी।

  • जिले में 44 ऐक्टिव मामले

ऑरेंज जोन में शामिल गाजियाबाद में सोमवार को कोरोना के 13 मरीज सामने आए थे। उनमें एक बैंक कर्मचारी तो वहीं दिल्ली पुलिस का एक जवान शामिल था। सभी को साहिबाबाद स्थित अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। इसके साथ ही जिले में कोरोना के मरीजों की संख्या 95 हो गई है। इनमें से 50 मरीज ठीक होकर जा चुके हैं। फिलहाल जिले में 44 एक्टिव केस हैं।

  • प्रवासी लोग रहेंगे क्वारंटीन

सरकार द्वारा दूसरे राज्य में फंसे मजदूरों को वापस लाने के लिए भी प्रयास तेज कर दिए गए हैं। इसी के मद्देनजर जिले में अहम निर्देश जारी किए गए हैं। इस निर्देश के तहत जिले में प्रवासी मजदूरों के लौटने पर स्क्रीनिंग की जाएगी। साथ ही 21 दिन के लिए होम क्वारंटीन में रखा जाएगा यदि उनमें कोरोना वायरस का लक्षण पाया जाता है तो उन्हें क्वारंटीन सेंटर में भेजा जाएगा। इस दौरान उनकी 2 बार कोरोना जांच करवाई जाएगी।

  • आशा वर्कर लेंगी जानकारी

सीएमओ ने जानकारी देते हुए कहा कि आशा वर्कर वारंटिंग किए गए घरों में 3 दिन में एक बार जरूर जाएंगी और परिवार के सदस्यों में बुखार, जुखाम, खांसी, सांस लेने में तकलीफ ऐसे लक्षणों के सामने आने की जानकारी लेंगी। ऐसे घरों में आशा वर्कर 7 साल से ऊपर की आयु के बुजुर्गो, प्रेग्नेंट महिलाओं, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज से रोगों से ग्रस्त लोगों को भी क्वारंटीन किए गए व्यक्तियों से अलग रहने की सलाह देंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here