home isolation

कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को अस्पताल से छुट्टी दिए जाने के नियम में बदलाव किया गया है। जिसके तहत अब मरीजों को उनकी सेहत को देखते हुए छुट्टी दी जाएगी।

कोरोना वायरस के मामले के लिए अस्पताल से छुट्टी दिए जाने की नीति में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बदलाव किया है। जिसके बाद अब कोरोना वायरस के केवल गंभीर मरीजों की ही अस्पताल से छुट्टी दे जाने से पहले ही जांच होगी।

नए बदलावों के मुताबिक, कोरोना वायरस से पीड़ित व्यक्ति में अगर गंभीर बीमारी ही विकसित होती है या रोग प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है तो ऐसे में मरीजों को अस्पताल द्वारा छुट्टी देने से पहले आरटी-पीसीआर जांच भी करानी होगी।

पेट के बल सोने वालों को हमेशा रहता है ये 6 तरह का दर्द

उन मरीजों को अस्पताल से छुट्टी देने से पहले जांच नहीं करानी होगी जिनमें कोरोनावायरस के हल्के या फिर बहुत कम लक्षण हो। अब तक के नियमों के मुताबिक, किसी मरीज को तब अस्पताल से छुट्टी दी जाती थी जब 14 दिन पर उसकी जांच रिपोर्ट नेगेटिव आती थी और इसके बाद फिर 24 घंटे के अंतराल में रिपोर्ट नेगेटिव आती थी।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 1,981 हो गई है और शनिवार को इस के मामलों की संख्या 59,662 पर पहुंच गई। पिछले 24 घंटे में 95 और लोगों की इस वायरस के कारण मौत हुई और इस वायरस के 3,320 नए केस प्रकाश में आए हैं।

संशोधित नीति में कहा गया है कि अगर कोरोना वायरस से पीड़ित मरीज का बुखार 3 दिन में ठीक हो जाता है तो उसे अगले 4 दिन (ऑक्सीजन की मदद के बिना) मरीज ‘सैचुरेशन’ 95% से अधिक बनाए रखता है तो ऐसे मरीज को 10 दिन में अस्पताल से छुट्टी दे सकती जा सकती है।

मंत्रालय ने कहा, ‘अस्पताल से छुट्टी से पहले जांच की आवश्यकता नहीं होगी।’ अस्पताल से छुट्टी दिए जाने के समय मरीज को दिशा निर्देश के मुताबिक साथ घर में अलग रहने को कहा जाएगा। हल्के लक्षण वाले मरीजों को कोविड देखभाल केंद्र में भर्ती किया जाएगा। जहां उसके तापमान की नियमित रूप से जांच की जाएगी।

संशोधित नीति में कहा गया है, ‘लक्षण शुरू होने के 10 दिन बाद और तीन दिन तक बुखार नहीं होने के बाद रोगी को छुट्टी दी जा सकती है। छुट्टी दिए जाने से पहले मरीज को जांच की जरूरत नहीं होगी।’ हालांकि अगर छुट्टी दिए जाने के बाद अब मरीज में फिर से बुखार, सांस लेने में दिक्कत, खांसी से जुड़े लक्षण सामने आते हैं तो वह कोविड देखभाल केंद्र या राज्य हेल्पलाइन 1075 पर संपर्क कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here