राजधानी में बदला होम आइसोलेशन का नियम, अब कुछ शर्तों को ध्यान रख दी जाएगी होम आइसोलेशन की इजाजत।

 

राजधानी दिल्ली में होम आइसोलेशन (home isolation) को लेकर नियमों में बदलाव किया गया है। बता दें, शुक्रवार को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों को 5 दिन के लिए अनिवार्य रूप से क्वारनटीन सेंटर भेजने का निर्देश दिया था हालांकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विरोध के बाद राज्यपाल ने इस फैसले को वापस ले लिया है।

दरसअल, दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की हुई बैठक में इसपर फैसला लिया गया। इसके बाद जो तय हुआ उसके आधार पर दिल्ली सरकार ने औपचारिक आदेश जारी किया है।

होम आइसोलेशन के लिए ये है आदेश

दिल्ली सरकार के संशोधित आदेश के अनुसार, दिल्ली में सभी वायरस पॉजिटिव मरीजों को कोविड केयर सेंटर में क्लिनिकल और भौतिक परिस्थितियों यानी घर की स्थिति को जांच परख के बाद ही होम आइसोलेशन को चुनने की सुविधा दी जाएगी। इसका अर्थ यह होता है कि अब सभी कोरोना मरीजों को पहले कोविड केयर सेंटर रेफर किया जाएगा।

मरीज की स्थिति का आकलन

कोविड केयर सेंटर में पहले वायरस पीड़ित मरीज की मेडिकल स्थिति, बीमारी के खतरे और दूसरी पुरानी गंभीर बीमारियों का आकलन किया जाएगा। इसके बाद
मरीज की घर की स्थिति को देखा जाएगा कि क्या उसके पास होम आइसोलेशन के लिए जरूरी सुविधाएं है। इन सुविधाओं में न्यूनतम 2 कमरे और अलग टॉयलेट शामिल है ताकि परिवार और पड़ोसियों में वायरस का संक्रमण न फैले।

जरूरी सुविधा होने पर होम आइसोलेशन की इजाजत

दिल्ली सरकार के जारी आदेश के अनुसार, अगर वायरस पीड़ित मरीज के पास होम आइसोलेशन की जरूरी सुविधाएं मौजूद है और उसके क्लिनिकल आकलन में कोई खतरे वाली बात नहीं है तो उसे तत्काल अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराने की आवश्यकता नहीं है। ऐसी हालत में मरीज को होम आइसोलेशन की सुविधा का प्रस्ताव दिया जाएगा। मरीज चाहे तो वह कोविड केयर सेंटर में या फिर पेड आइसोलेशन सुविधा में रह सकता है। हालांकि बाकी सभी मरीजों को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइंस के अनुसार कोविड केयर सेंटर में ही रहना होगा।

यहाँ आपको बता दें, जो लोग वर्तमान में होम आइसोलेशन में हैं उन्हें होम आइसोलेशन की सभी गाइडलाइंस की दिशा निर्देश का पालन करना होगा और मेडिकल सहायता देने वाले लोगों के संपर्क में रहना होगा ताकि जरूरत के वक्त अगर मरीज की तबियत बिगड़ती है तो उसे कोविड हॉस्पिटल में भेजा जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here