Chandra Grahan

आज यानी 5 जून को एक खास चंद्रग्रहण लगने जा रहा है। ये एक उपछाया चंद्रग्रहण होगा जो कई देशों में दिखाई देगा।

चंद्रग्रहण क्या होता है?, यह सवाल अक्सर लोगों के मन में रहता है। जिस वक्त सूर्य और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आती है तो सूर्य की पूरी रोशनी चंद्रमा पर नहीं पड़ती है। तो इसे चंद्रग्रहण कहते हैं। जिस वक्त सूर्य, पृथ्वी और चंद्रमा एक सरल रेखा में चरणबद्ध होते हैं तब चंद्रग्रहण की स्थिति बनती है। हमेशा पूर्णिमा की रात में ही चंद्रग्रहण होता है। बता दें, चंद्रमा एक वर्ष में ज़्यादा से ज्यादा तीन बार पृथ्वी के उपछाया से गुजरता है, तभी चंद्रग्रहण लगता है।

Chandra Grahan 2020: आज लगेगा सबसे खास चंद्रग्रहण

  • क्यों होता है चंद्र ग्रहण ?

चंद्र ग्रहण एक खगोलीय स्थिति है। जब पृथ्वी और सूर्य चंद्रमा के बीच में आ जाते हैं और जब चंद्रमा, धरती की छाया से निकलता है तो ये चंद्रग्रहण कहलाता है। वहीं जब पृथ्वी सूर्य की किरणों को पूरी तरह से रोक लेती है तो वह पूर्ण चंद्रग्रहण कहलाता है लेकिन जब चंद्रमा का सिर्फ एक भाग छिपता है तो इसे आंशिक चंद्रग्रहण कहते हैं।

  • यहां देखें चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण टेलिस्‍कोप की मदद से देखने पर काफी खूबसूरत लगता है। इसे आप www.virtualtelescope.eu पर वर्चुअल टेलिस्‍कोप की मदद से देख सकते हैं। इसके sath ही आप इसे यूट्यूब चैनल CosmoSapiens, Slooh पर लाइव भी देख सकते हैं।

  • क्या पूर्णिमा के दिन ही पड़ता है चंद्र ग्रहण?

हां, चंद्र ग्रहण पूर्णिमा के दिन पड़ता है लेकिन हर बार पूर्णिमा को चंद्र ग्रहण नहीं होता। इसके पीछे का कारण पृथ्वी की कक्षा पर चंद्रमा की कक्षा का झुके होना है। यह झुकाव करीब 5 डिग्री है इसलिए हर बार चंद्रमा पृथ्वी की छाया में प्रवेश नहीं करता। उसके ऊपर या नीचे रह जाता है। यही बात सूर्यग्रहण के लिए भी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here