Buddha Purnima

7 मई को देशभर में बुध पूर्णिमा का आयोजन किया जाएगा। तो चलिए जानते हैं क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि

कल यानी 7 मई को हिंदू पंचांग के मुताबिक बुध पूर्णिमा के पर्व का आयोजन किया जाएगा। बुद्ध पूर्णिमा का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। 7 महीने की पूर्णिमा के दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था। इन्हें भगवान श्री हरि विष्णु के अवतार के रूप में माना जाता है। कहा जाता है इसी दिन उनको Bodhi Tree (बोधि वृक्ष) के नीचे ज्ञान मिला था।

चाणक्य नीति: इन 4 स्थितियों में दूसरों के कारण व्यक्ति को मिलती है सजा

तिथि और शुभ मुहूर्त 

  • 7 मई 2020- बुद्ध पूर्णिमा की तिथि
  • 6 मई 2020, शाम 7 बजकर 44 मिनट से- पूर्णिमा तिथि प्रारंभ समय

पूर्णिमा तिथि समाप्‍त समय- 7 मई 2020 को शाम 04 बजकर 14 मिनट तक 

कैसे करें पूजा

  • सूर्योदय से पहले उठकर घर की साफ-सफाई करें।
  • साफ-सफाई करने के बाद स्नान करके खुद को गंगाजल से पवित्र करें।
  • घर में स्थित मंदिर में विष्णु जी की प्रतिमा के सामने जोत चलाकर उनकी पूजा-अर्चना करें।
  • इसके बाद घर के मुख्य द्वार पर रोली, हल्दी या कुमकुम से स्वास्तिक बनाकर वहां गंगाजल छिड़के।
  • पूजा पूरी होने के बाद गरीबों को भोजन कराएं और कपड़े दान करें।
  • अगर आपके घर में कोई पक्षी है तो उसे बुद्ध पूर्णिमा के दिन आजाद कर दें।
  • शाम को उगते हुए चंद्रमा को जल चढ़ाएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here