नागालैंड में कुत्तों पर बड़ा फैसला लिया गया है। ये फैसला राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गया।

Nagalan sarkar (नागालैंड सरकार) ने कुत्तों को लेकर बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के बाद अब कुत्तों की बिक्री और इसके सेवन पर रोक लगा दी गई है। बता दें, इस फैसले को जानवरों के साथ हो रही क्रूरता और चिंताओं को देखते हुए लिया गया है। राज्य के संसदीय मामलों के मंत्री एन. क्रोनू ने इस मामले पर जानकारी देते हुए कहा कि राज्य मंत्रिमंडल की बैठक इस मामले पर फैसला लिया गया है। इस फैसले के मुताबिक अब कुत्तों के वाणिज्यिक आयात और व्यापार और कुत्ते के मांस की बिक्री पर रोक लगा दी गई है।

इस मामले पर राज्य के मुख्य सचिव तेमजेन तॉय ने ट्वीट कर सरकार के इस महवपूर्ण फैसले की जानकारी दी है। जिसके अनुसार, किसी भी प्रकार कुत्ते के पके हुए और कच्चे दोनों तरह के मांस पर प्रतिबंध होगा। सरकार के प्रवक्ता क्रोनू ने बताया, “राज्य मंत्रिमंडल ने यह फैसला सेवन के लिए दूसरे राज्यों से कुत्तों को लाने के खतरों को देखते हुए और पशु क्रूरता निवारण अधिनियम (Animal Cruelty Prevention Act), 1960 के तहत लिया गया।”

एन. क्रोनू ने मामले पर कहा की सरकार की ओर से सूअरों के वाणिज्यिक आयात, व्यापार पर भी तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी गई है। क्रोनू ने बताया कि पहले ही क्षेत्र में स्वाइन फ्लू के प्रकोप के बाद रांची में समारोह के आयात पर रोक लगाई गई थी जिसे मंत्री मंडल की ओर से मंजूरी भी मिल गई है।

आपको बता दें की पूर्वोत्तर के राज्य में कुत्ते का मांस खाने का प्रचलन है। यहां लोग इनके मांस को खाने के पीछे उच्च पोषण का कारण बताते हैं। ध्यान हो कि अभी कुछ समय पहले सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें कुत्ते से बर्बरता का मामला देखने को मिला था। इस वीडियो के वायरल के खिलाफ लोगों ने आवाज उठाई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here