नशा एक ऐसा जाल है जिसके चंगुल में जो फंस गया उसका इससे बाहर निकालना बहुत ही मुश्किल माना जाता है।

नशा, चाहे सिगरेट का हो, दारू का हो या फिर गांजे का व्यक्ति के शरीर के लिए काफी हानिकारक है। बड़े ही नहीं बल्कि अब तो बच्चें भी इन नशों की गिरफ्त में आ गए हैं लेकिन क्या आप जानते हैं देश के सभी प्रदेशों को पछाड़ कर यूपी नशाखोरी में पहले नंबर है। जी हां, यूपी एक ऐसा राज्य है जहां नशे की गिरफ्त में आने वाले नाबालिग भी सबसे अधिके है।

आपको बता दें, यह चौंकाने वाला सच एम्स स्थित नेशनल ड्रग डिपेंडेंस ट्रीटमेंट सेंटर के सर्वे में सामने आया हैं। सर्वे में ये बात सामने आई है कि यूपी के 94 हजार नाबालिग बच्चे नशे के शिकार हैं। उत्तर प्रदेश के बाद मध्य प्रदेश दूसरे नंबर पर है जहां इनकी संख्या 50 है मध्य प्रदेश के साथ तीसरा स्थान 40 हजार बच्चों के साथ महाराष्ट्र का है। यहाँ आपको ये भी बता दें कि यूपी में सबसे अधिक लोग नशीले पदार्थों और नशीले इंजेक्शनों का इस्तेमाल करते हैं।

अफीम के नशे में भी यूपी नंबर वन पर

बात करें अफीम के नशे की तो इसमें भी उत्तर प्रदेश पंजाब और हरियाणा को पीछे छोड़ते हुए सबसे आगे है। उत्तर प्रदेश में 10.7 लाख लोग इस नशे की गिरफ्त में हैं जबकि पंजाब में यह आंकड़ा 7.2 और हरियाणा में 5.9 लाख पर है।

शराब और गांजे के नशेड़ी भी यूपी में

सर्वे के अनुसार, देश में 16 करोड़ से अधिक लोग शराब का सेवन करते हैं जिनमें से 5.7 करोड़ को इसकी लत है। अकेले उत्तर प्रदेश में इनकी संख्या 1.6 करोड़ है, आंध्र प्रदेश में 48 लाख है। ऐसे ही उत्तर प्रदेश में 28 लाख से अधिक लोग गांजे का नशा करते हैं, जबकि पंजाब में कुल 5.8 लाख इस नशे के शिकार हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here